सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

वक़्त ने बदल दिया है, कुछ लोगो के दिलो को
वरना हम भी वो थे दोस्तों ,जो दिलो में बसा करते थे

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

0 comments:

Post a Comment