सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

जिंदगी के रंग खुशी और गम

कोई हकीक़त से दुखी है,कोई ख्वाबों मे खुश है
कभी फुरसत हो तो सोचना उनके बारे मे जो
हकीकतों के साथ ख्वाबों मे जाने की भुल करते है ♥
♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥
हक़ीकतो के साथ ख्वाब देखने वाले
ना जीते है ना मरते है
ना दुख मे दुखी हो पाते है
ना खुशी मे दिलसे खुश हो पाते
हरघड़ी हरपल सिर्फ उलझे रहते है♥

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

1 comments:

vikaskumar nimesh said...

kabhi kabhi rah chalte chalte kuch aise log mil jaate hain
ke unko pa nahi sakte to bhula dene ko man karta hai
par unka pyaar sachha aur pavitra hota hai
tabhi to unko bhula dene ki baat ko sunkar bhagwaan bhi roothh jata hai
tabhi to aise log bhagwaan ki bheji hui anmol cheej kehlaye jaate hain

i miss u my best friend K.P.R.

i real miss u....

Post a Comment