सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

तेरे स्नेह की कुछ बूँदें

तेरे स्नेह की कुछ बूंदों में 
गुज़र रही थी मेरी सुबह शाम 
यूँ तो दूर था तूं मुझसे 
पर तेरे दिल के क़रीब
खुदको जान 
मिल जाता था सकूँ 
आ जाता था आराम 
एक तेरे दिल से क्या गई
ये जिंदगी नर्क सी बन गई
क्या करूँ कहाँ जाऊं 
ना एक पल सकूं है 


ना इक पल आराम
देख तेरी तस्वीर
सिने से लगा लेती हूँ
मैं वो अभागन हूँ जो
दूर होके तुझसे
ज़ीने की सज़ा काटती हूँ
हो आँखों के सामने
यही भाग्य मैं मनाती हूँ
दूर से ही सनम तेरा
दीदार मैं करती हूँ
चुपके चुपके तुझ संग
बातें हज़ार करती हूँ
भनक ना लग जाये कही तुझे
इसलिए मन ही मन तुम पे
हर पल मैं मरती हूँ
तेरे बिना कुछ नही रहा
इस जीवन में
तेरी यादों को सिने में दबाये
जीती हूँ

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

2 comments:

The WorkPlace said...

ap na etna kuch likha or etna acha ...i like it ..tnqqq

The WorkPlace : नयी सोच और नयी तकनीक के साथ नये युग की शुरुवात

निभा चौधरी said...

शुक्रिया आभार आपका ........

Post a Comment