सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

कुछ यूँही..बस यूँही....!!!

दिल के कैदख़ाने से रिहाई की कोई आस नहीं....मुज़रिम है उम्मीद ..........कुसूरवार है वफ़ा......रिहा होने की कोई गुंज़ाईस नही...!!!

तड़प तड़प के आहें भर भर जीवन यूँही बिताना है...तन्हाँ तन्हाँ तनहाई में...छुपके छुपके चुपके से गज़ले तेरी गुनगुनाना है.......चाँद तारे आसमां में....हमें भाते नही अब रातों में......रुलाते हैं मुझे जी भर ये....जब करते हैं याद इन्हें देख तुझे हम रातों में....दर्द का दरिया मिला है....आँखों को सज़ा मिला है....सदियाँ बीत गयी कुछ ऐसे...जन्मों से तू मुझे भुला है.......कुछ दिन की ये जिंदगानी बची है....कुछ पन्नों की अब कहानी बची है........दर्द की कुछ निशानी बची है......ज़िस्म को मिट जानी ही है....रूह मेरा पर यूँ .....कैद हैं तेरी यादों में ...करते घण्टों दिवारों से बातें हम अनजाने में......!!!#बसयूँही

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

17 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (25-08-2014) को "हमारा वज़ीफ़ा... " { चर्चामंच - 1716 } पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

निभा चौधरी said...

शुक्रिया सर आभार आपका...

आशीष भाई said...

बहुत ही सुंदर लेखन व ब्लॉग , आ. धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
~ I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ ~ ( ब्लॉग पोस्ट्स चर्चाकार )

निभा चौधरी said...

शुक्रिया आभार आपका आशीष जी...

सु..मन(Suman Kapoor) said...

सुंदर प्रस्तुति

सु..मन(Suman Kapoor) said...

word verification hta len ..cmnt karne men dikkat hoti hai ...

मन के - मनके said...

विरह-भावों को समेटे,दिल को छूती रचना.

निभा चौधरी said...

आपका आभार सुमन जी ...!!

निभा चौधरी said...

शुक्रिया आपका ...!!

निभा चौधरी said...

मैं कोशिश करुँगी :)

Pratibha Verma said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

निभा चौधरी said...

शुक्रिया प्रतिभा जी...!!!

संजय भास्‍कर said...

एहसास की यह अभिव्यक्ति बहुत खूब

vj said...
This comment has been removed by the author.
vj said...

प्रणाम। मैं कोई लेखिका नहीं कभी कभी किसीके अल्फाजों में अपने ज़ज्बात ढूंढ़ ती हूँ। इस लेख को पढ़ कर मेरी आँखें नम हैं। कुछ रोज़ पहले इसकी कुछ पंक्तियाँ ट्विटर पर पढ़ी थी,लगा था मेरे एहसास किसने शब्दों में ढाल दिए?शुक्रिया..दिल के एहसास दिल तक पहुँचाने के लिए..अपने दिल और सेहत का ख्याल रखें..regards विजया

निभा चौधरी said...

शुक्रिया संजय जी.......

निभा चौधरी said...

शुक्रिया आपका....खुबसूरत टिप्णी के लिए...तहे दिल से आभार....!!

Post a Comment