सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

अनंत....!!!

पाताल
 सी 
गहरी
आसमां 
सा
 फ़ैलाव
न 
सीमा 
न 
अंत
सोच 
की 
परत 
अनंत
चाहत 
रंज 
गम 
जिंदगी के रंग...#बसयूँही 


  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

8 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (22-09-2014) को "जिसकी तारीफ की वो खुदा हो गया" (चर्चा मंच 1744) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच के सभी पाठकों को
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

आशीष अवस्थी said...

वाह सुंदर जी , धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 23 . 9 . 2014 दिन मंगलवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

राजीव उपाध्याय said...

वाह निशा जी इतने कम शब्दों में इतनी बात। बहुत खुब्।

निभा चौधरी said...

शुक्रिया सर....!!

निभा चौधरी said...

आभार आशीष जी..!!!

निभा चौधरी said...

धन्यवाद आपका राजीव जी...!!

Lekhika 'Pari M Shlok' said...

Khubsurat rachna bahad.... Umdaaaa

निभा चौधरी said...

शुक्रिया...!!

Post a Comment