सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

इक ख़्वाब एक हक़ीकत......!!!

उड़ती थी वो आकाश में 
करती थी बादलों की सवारी 
चाँद तारों से करती बातें 
खिल उठती कमल पुष्प की भांति 
बारिश की बूंदों से खेलती 
हवाओं के संग झूमती गाती
प्रेम ही प्रेम हर जगह दिखता
जहाँ भी उसकी नज़र थी जाती 
________________________

आंख खुली 
होश में वो जो आई 
रेगिस्तान में खुदको पाई
प्यास ने ऐसी आग लगाई
मीठा सा एक  झड़ना 
अंखियों में समाई 
लगी भागने लगी दौड़ने 
झड़ने के नज़दीक पहुँचने 
दूर दूर वो झड़ना होता जाये 
पास न उसके वो पहुँच पाए 
प्यास ने उसे यूँ भरमाया 
करी साज़िश भ्रांति फैलाया
रही तड़पती यूँही बिलखती 
बूंद बूंद को तरसती ....!!!#बसयूँही 





  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

1 comments:

Deepika Shukla said...

बहुत ही खूबसूरत ✌

Post a Comment