सत्य प्रेम के जो हैं रूप उन्हीं से छाँव.. उन्हीं से धुप. Powered by Blogger.
RSS

स्नेह लिखो दुलार लिखो

तुम थे तुम हो तुम ही रहोगे
नफरत लिखो या प्यार लिखो
कहता है हमदम ये साल नया
तुम स्नेह लिखो दुलार लिखो
करते हो तुम सवाल बहुत
कभी तो अपना हाल लिखो
आती हूँ मैं याद तुम्हें भी
कुछ ऐसा इस साल लिखो
छोड़ो अब ये व्यथापुराण
आंसुओं का विवरण रहने दो
विपुलहर्ष ले नववर्ष आया
तुम हर धड़कन को प्रेम लिखो__|||💞

  • Digg
  • Del.icio.us
  • StumbleUpon
  • Reddit
  • RSS

2 comments:

राकेश कुमार श्रीवास्तव राही said...

सुंदर भाव-अभिव्यक्ति।

Nibha choudhary said...

शुक्रिया 😊

Post a Comment